Cinemarg features documentaries, educational videos, and short films made by independent filmmakers from South Asia as well as around the world. Enjoy our films.

Cinemarg also invites independent filmmakers and producers to contribute their documentaries on this platform. You can feature them for free viewing as well as monetize them. Let Cinemarg become a buzzing space for watching indie cinema. You may contact us via the email button below.

No results.

Apni Dhun Mein Kabootari

A documentary film about the life, the music, the everyday struggles and the memories of the very popular Kumaoni folk singer Kabootri Devi.

Direction by Sanjay Mattoo, camera by Apal and editing by Shikha Sen. Executive director Sanjay Joshi.

Hailing from a lower caste family of traditional musicians and with no formal training in music Kabootari Devi went on to rule the airwaves and capture the hearts of her listeners with her folk songs being broadcast on All India Radio in the 1970s and 80s. In the film Kabootari Devi reminisces about her passion for music as a child, her first experience of recording a song in an AIR studio, the professional challenges she had to overcome, the drudgery of her everyday life and why she sang the kind of songs she did. It is these memories which take us beyond knowing her as just a disembodied voice on the radio and give us a more complex and nuanced picture of her as an incredibly gifted singer and a courageous, determined and steely willed woman. Her stories about how she negotiated patriarchy in different forms help us rethink gender dynamics in society.

Kabootari Devi’s life and musical journey throws light on the changes taking place in independent India and how social, economic and political processes were reshaping cultural politics in the country. The film locates some of these processes specially the role played by public broadcasting in shaping ‘folk’ music as a distinct form of cultural modernity.

#कबूतरी_देवी_की_याद_में #In_Memory_of_Kabootari_Devi

उत्तराखंड की लोकगायिका कबूतरी देवी को 7 जुलाई को हम सबसे बिछड़े तीन साल हो जायेंगे लेकिन उनकी अद्भुत आवाज़ हम सबके कानों में अभी भी गूंजती है.

उनकी मृत्यु से करीब दो साल पहले से ही नैनीताल में रहने वाली संस्कृतिकर्मी उमा भट्ट और उनके मित्रों के प्रयासों से कबूतरी जी पर एक दस्तावेज़ी फ़िल्म बनने की प्रक्रिया शुरू हो चली थी. इस जरुरी काम में नैनीताल फ़िल्म सोसाइटी, प्रतिरोध का सिनेमा और फ्लेमिंगो फ़िल्म्स ने भी बहुत महत्वपूर्ण योगदान दिया और हम सबके लिए ख़ुशी की बात यह रही कि उमा दी फ़िल्म का लगभग संपादित वर्ज़न कबूतरी जी को उनके निधन के ठीक पहले दिखा सकी थीं. नैनीताल शहर ने जिस शिद्दत और मुहब्बत के साथ इस फ़िल्म के निर्माण में मदद की वह याद रखने लायक बात है. नैनीताल शहर के हम इसलिए भी शुक्रगुज़ार हैं क्योंकि यहीं के समझदार लोगों की वजह से साल 2003 में शहर के शैले हाल में कबूतरी जी शानदार वापिसी हुई.

लाकडाउन से पहले इस फ़िल्म के कबूतरी जी के गाँव के अलावा उत्तर भारत के कई शहरों में कई शानदार शो हुए और दस्तावेजीकरण के महत्व को बहुतेरे संस्कृतिप्रेमी लोगों ने गहरे से समझा. लाकडाउन के चलते यह सिलसिला थम सा गया और अब फ़िल्मकार यूसुफ़ सईद की मदद से हम यह फ़िल्म आप सबके लिए vimeo प्लेटफ़ॉर्म पर जारी कर रहे हैं.

आप सबसे अनुरोध है कि फ़िल्म को देखिये और बुधवार को शाम 6 बजे इस पर होने वाली बातचीत में भी जरुर शामिल हों.

×

Contact